This post is in hindi and i hope it will look okay on the blog..Actually these are some of my childhood poems - the last one  i wrote when i learnt about the synonyms  of night and moon i.e.rajni- rajneesh and was quite liked the sound of the words .Infact I liked the words so much that I  starteed using these terms only instead of the common Raat and  chand terms.


The other (in start) three are lines written as b'day wishes using the person's name.

जन्म दिवस की शुभ - कामनाओं हेतु..........

तुम शुभ्र घटा बन कर स्वाति
संग लिये दीप्ति विश्वासो की ,
जीवन बगिया सिन्चित करना ,
आशाआओ के मधुमासो की.                  सन॒ १९९५
 
बनो सर्व प्रिय तुम प्रियंका ,
सुख मेघों पर हो आसीन,
सुर भित हो जीवन कि बगिया
हो उत्कर्ष नवीन- नवीन.                          सन॒ ९६

हो सुखद स्वप्न साकर सभी
रह्ते हो जिन मे सराबोर ,
तुम बढो लक्ष्य पथ पर ऐसे;
रह जाये सब विस्मित - विभोर.                        सन॒ ९६

 
रज् नी के संग होता है रजनीश ,यह बात सभी को मालुम है
लेकिन इन दोनो मे क्या अन्तर है,क्या अन्तर है
क्या यह बात किसी को मालुम है?
र जनी के आते ही सब निद्रा में खो जाते हैं
र्र्जनीश के आते ही , भट्के हुए राही
पथ पर पहुच जाते हैं..

                                                                       सन॒ १९८८

 

No comments:

Post a Comment

Your views make this blog work ...Thanks a lot. :)