Skip to main content

Posts

Showing posts from December, 2015

Your Words : Haiku

words, fresh like flowers 
                                                                        soft, scented and  exquisite
                                                                        a wreath fit for death




 Image Credit : Here





फासले : हाइकू

                                                                                फासलों  से क्या ?
                                                                                कि पा लेंगे किस्सों में  - 
                                                                                फिर तुमको  




will meet you in verse 
                                                                       my eyes caressing your words
                                                                       eternal embrace




फासलों - distances ,                                                                      किस्सों - stories


Image : Here

पहेली : The Riddle

बातें अनचीन्ही, अनजानी, 
गूंगे के गुड़ सी गिरातीत 
तक रही कुमुदिनी शरद चन्द्र, 
जाने किन भावों से प्रेरित ?

यह मौन अबूझ अबोला सा, 
मधुरिम मृदु स्मृतियों से  मुखरित। 
प्रस्तर उर की नीरवता में, 
निर्झरणी सा अन्तःस्पंदित। 

                                                        यह चित्र विचित्र निराला सा,  
    मानस  नभ  पर  ऐसा  चित्रित।  
    ना होकर भी , कैसे  जाने,  है 
इक छवि प्रतिपल प्रतिबिंबित ?



यह भावजगत भी जीवन की कैसी अनबूझ पहेली है,
    जानी पहचानी होकर भी लगती नित नयी नवेली है !

    जो लगा समझ में आया है वो अनसमझा रह जाता है,
    चिर परिचित से चलते पथ पर कुछ नया और जुड़ जाता है ..





Just like the  title, its riddling-ly tough  for me to capture and translate these evanascent observations regarding the tricks of life.
Life never cease to amaze us specially, at the most inconvenient of times .. as soon as we  feel we have sorted it out , it stupefies us with another twist or like a cunning virtuoso manifests itself as an unheard strain from an  old melody , presenting  a fresh perspective , a new…

Blue : Haiku

a dull and gray blue 
                                                                              bare like a wind-played sky
                                                                              the battered  bruised heart




                                                                               achromatic blue
                                                                               the colour of loss, heart feels
                                                                               a lachrymose sky 



Image Credits : Here

Cold : Haiku

amber warmth in cold 
                                                                      sunshine spilled on frozen lakes 
                                                                      swells and ebbs beneath 


Though late , this haiku is written as a part of  HWT -Haiku Writing Technique of  The Carpe Diem Haiku Kai with 'cold' or 'Deep in Cold North' as the theme. The HWT here was “double entendre” which, as the name suggests, is open to two interpretations of which, the one is usually risqué.

Image : Here

प्रतिश्रुत : Pledged

भावों का अस्फुट रह जाना  
आँखों-आँखों में कह जाना 
धरती-नभ के गुंजारव में, 
सुनना बस, 'तुम-तुम' का गाना। 



मन में होती इस हलचल का, 
व्याकुल होकर जतला  देना 
तुम आज  हो रहे हो विह्वल,    
बिन बोले यह बतला जाना। 


अनकहे शब्द अनकहे रहें  ,
खुद ही कुछ अर्थ लगा लेना !
सन्नाटे की ध्वनियाँ चुनकर,
 सुन्दर एक गीत बना लेना। 

निःशब्द मुखर,  वह  प्रेम राग ,
 एकांतवास चिर संगी हो 
 तुम रहे सितासित तुम जानो ,
 मेरे मन में , सतरंगी हो।  


 चंचल मन अवश  तुम्हारे से,  
 परिचय मेरा  प्राचीन बहुत 
 तुमको लेकर निज भावों से, मैं अब भी वैसी ही  प्रतिश्रुत। 





When words fail and the unsaid goes unheard, it's time to move on. 
When  we realize we have befriended the 'asit' - the sinners and the dark, its time to move on. 
When introspection unmasks their deceit and false accusations/abuses are hurled, it's time to move on. 
But.. I have chosen it as a time to test fortitude and loyalty. As a time to test myself that/ if I meant every word I sa…

मैं

बच्चे जब आकर माँ कहते ,
मैं झट  से माँ बन  जाती हूँ
जब द्वार खटकता  संध्या को,
मुग्धा बन दौड़ी जाती हूँ

जब सघन समस्या  जीवन की,
 बादल सी आ गहराती हैं
चपला  सी त्वरित चमक कर मैं,
 चिंता का तमस मिटाती हूँ

जब शीतल मंद बयार चले, 
कागज़ पर शब्द सजाती हूँ
बादल जब गरज बुलाता है , 
मैं व्योम छोर छू  आती हूँ

चल -दल  हिलते हैं जब, झिलमिल 
नदिया  रह -रह बल खाती है 
तब हाथ पकड़ मेरा मुझसे ,
पुरवा कुछ लिखवा जाती है। 

इस सहज सरल गति से मैं निज ,
जीवन में रंग भर लेती हूँ 
जो ले पाती, ले लेती हूँ 
जो दे पाती, दे देती हूँ 



संध्या - evening                              मुग्धा - admirer , drawn like a moth to a flame 
चपला - lightening                          तमस - darkness
व्योम छोर - horizon                        चल -दल - Leaves of Peepal tree  
पुरवा - Eastern winds                   सहज सरल  - spontaneous and natural 


The poem was written originally for a dear friend and a very talented Blogger Ravish Mani's interview Series ,Here

Tacit : Haiku

blessed in naivety`
                                                    pure and shy like tacit love 
                                                    coyly blooms the bud






You : A Haiku

dancing candle flame
                                                                          my heart is glowing with your thoughts 
                                                                          shimmering fire-flies





The Haiku is written for the audio prompt given by dear friend Ravish Maniwho created this on special request despite his illness! 
So glad to see you back :)