नेह का मोल

बस यही नेह  का मोल ?

नभ छोर छोड़ कर क्यूँ जाऊँ
संशय से मन में सकुचाउँ
बंधन में जाकर अकुलाऊँ
जब  नील तरी में कर आऊँ
मैं, मेघों के साथ हिंडोल ?

कोमल मन, अधर विहँसते  हैं
मृग शावक के से नैनों में
वासंती स्वप्न विचरते हैं
फिर क्यों इस स्वछंद स्वप्न  में
लूँ , विरह की  पीड़ा घोल ?

सब शब्द छद्म हैं, मालूम है
बिन अर्थ खोखले बजते हैं
जो  कहें,  बेपनाह चाहते  हैं
बेवजह भुलाया करते हैं
फिर क्यों अवसाद मलिन
तम में, गाउँ उषा के बोल ?

हाँ,  यही नेह का मोल। 




नेह = affection                                                                                                       मोल =  value
संशय = doubt , dillemma                                                                                                                 सकुचाउँ = hesitation
बंधन = boundations                                                                                           अकुलाऊँ =  getting fidgety , restless 
नील तरी  = a blue (sky) boat                                                                                                  मेघों = clouds
हिंडोल  = swing                                                                                                                                विहँसते = laughs
मृग शावक =  fawn                                                                                            वासंती =  of spring , nascant
स्वछंद  = free                                                                                                                          विरह =  sorrow of being apart
घोल  = dissolve                                                                                                                                  छद्म =  fake , trickery
खोखले =  hollow                                                                                                                               बेपनाह = limitless
बेवजह =  without reason                                                                                 अवसाद मलिन = made squalid by melonchaly
तम  = darkness                                                                                                 उषा के बोल =  words of dawn



12 comments:

  1. अनमोल नेह का मोल लगाने में कहीं पवित्र भाव लुप्त से हो जाते हैं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. एकदम सटीक टिप्पणी है!आपसे सहमत हूँ:)
      पर जितना समय हँसते गाते , स्वप्न बुनते बीत जाये उतना अच्छा..सत्य अक्सर ही कटु होता है। प्रेम भी। अनमोल है पर भोलापन ले जाता है :)
      Thank-you for stopping by and the beautiful comment:)

      Delete
  2. How much more I have to learn Hindi!!! I know only a few words in this poem :-(

    ReplyDelete
    Replies
    1. Sindhu, from now-onward whether you are here or not ,i will post all my hindi post WITH the meanings.. Forgive me for being a bit er.. a bit more ..callous but I was under the impression that our precious little sunshine is keeping you too busy for a visit :D
      So many thanks for stopping by dear! Love and hugs :)

      Delete
  3. कोमल मन, अधर विहँसते हैं
    मृग शावक के से नैनों में
    वासंती स्वप्न विचरते हैं
    फिर क्यों इस स्वछंद स्वप्न में
    लूँ , विरह के पीड़ा घोल ?
    आपको नेट से ढूंढ ढूंढ कर पढता हूँ कोकिला जी ! एक से बेहतर एक रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. इतनी हौसला-अफजाई केलिये बहुत बहुत शुक्रिया योगी !! hope to keep you liking these :)

      Delete
  4. सुन्दर अभिव्यक्ति , कोकिला!

    ReplyDelete
    Replies

    1. ढ़ेर सारा धन्यवाद व स्वागत ! :)

      Delete
  5. It reflects a sad mood & sense of betrayal very beautifully. Truly touching & heart-melting. On the other side, it has philosophical insights. Wonderful combination. Well, all lines are good but my fav is "सब शब्द छद्म हैं, मालूम है." :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. Despite all my efforts to make it light, a trifle, you got it. That too quite effortlessly! You are the one to tear apart the beautiful, pink coloured, smiley-decked cover and see the seeping wound.
      your EVERY word is true .aur kya likhun ?
      The philosophical connotations appeared naturally and I can't take any credit for these Ravish, but yes, I am aware of them as these are one of the few bright things here :)
      I am honored to have you as a reader :)

      Delete

Your views make this blog work ...Thanks a lot. :)