ऋजुता : Honesty

अधरों पर सजता सलज हास
उर में शीतलता का विकास
दृग में अटके कुछ मुक्ताकण
निःस्वार्थ  नेह का सहज भास्

कौतुक  से टप-टपती  पलकें
बच्चों जैसा विस्मय अगाध
जिद्दी मन, चिंतन अति गूढ़
जाने कैसा मिश्रण प्रगाढ़

दुर्लभ लगती यह सृष्टि पर
है सरल लभ्य, बड़ा ऋजु मार्ग
बस, ऋजुता ही पा  जाते जो
नहीं होती छिन्न-विछिन्न आज

मिटटी मिटटी बन जाती है
मणिकर्ण दमकते रहते बस
हृत्पिंड धड़कता सदियों तक
आहत , लज्जित , मृतप्राय , अवश।

सलज हास = a naturally demure smile                              उर= heart , mind  
दृग  = eyes                                                                                       मुक्ताकण = pearls, here teardrops (liquid gaze ) 
कौतुक = curiosity with amazement                                          अवश = helpless
विस्मय = wonder, awe                                                                  अगाध = fathomless
सृष्टि = nature, here creation                                                ऋजु = straight, simple 
मणिकर्ण  = the ruby earrings, here the blazing pyres of the Manikarnika Ghat                                                      सदियों = for centuries                                                          हृत्पिंड = heart, here- just a beating lump of a heart. आहत = hurt                                                                         लज्जित = ashamed 
 मृतप्राय = moribund                                                          

8 comments:

  1. बहुत सुन्दर, मन की सम्यक अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
    Replies
    1. इस सुन्दर सम्यक कथन हेतु बहुत बहुत धन्यवाद प्रवीण !
      :)

      Delete
  2. Love this poem and the words you have woven into the poem, dear! Real beauty of honesty lies in kindness, right?

    ReplyDelete
    Replies
    1. So may thanks Sindhu ! coming from you, words become precious :)

      Delete
  3. दुर्लभ लगती यह सृष्टि पर है सरल लभ्य, बड़ा ऋजु मार्ग
    Is saral marg par bina bhatakkar chal pana bahut hi kathin hai. I love your hindi writing Kokila.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thank you in Tons Soamli !! That You read and enjoy, makes writing worthwhile :)

      Delete
  4. मिटटी मिटटी बन जाती है
    मणिकर्ण दमकते रहते बस
    हृत्पिंड धड़कता सदियों तक
    आहत , लज्जित , मृतप्राय , अवश।
    क्या बात है कोकिला जी ! अप्रतिम ! लेकिन मुझे हृत्पिंड का मतलब समझ नही आया ?

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद योगी ! हृत्पिंड = हृदय अथवा हृत + पिंड , ह्रदय , heart. here in the sense of just a beating mass of lump .
      So glad you are liking these Yogi :)

      Delete

Your views make this blog work ...Thanks a lot. :)