Skip to main content

Posts

Showing posts from May, 2016

वो रुपहली सांझ आये

वो रुपहली सांझ आये  

                                                                   स्वप्न वन में झूलने को 
                                                                   मन की व्यथाएं भूलने को, 
                                                                   स्नेह का मधुमास छाए 
                                                                   वो रुपहली  .... 


                                                                   मन-धरा के भाव उर्वर  
                                                                   कृतित्व के उन्नत शिखर पर, 
                                                                   यश-विधु फिर मुस्कुराये  
                                                                   वो रुपहली  ...... 


                                                                   निर्दोष कौतुक के वसन  में 
                                                                   मन के सूने  प्रांगण में 
                     …