Skip to main content

Posts

Showing posts from August, 2017

क्या करें

मुस्कुराते हम हैं हर तस्वीर में
                                                 झिलमिलाती इस नज़र को क्या कहें?

                                                 इक मुक़्क़मल ख़्वाब होती ज़िंदगी
                                                 दिल तेरी यादों का घर, अब क्या करें।

                                                खामोश है, सुनसान है मेरा मकां
                                                तेरी बातों का असर, हम क्या कहें?

                                                उलझनें कमबख्त दिल को कम ना थीं
                                                है तेरी रंजिश भी अब सर, क्या करें...


                                                सुर्ख़ अल्हड़पन, सिंदूरी शोखियाँ
                                                आज गुमसुम गुलमोहर वो, क्या कहें...

                                                बातों से महका, लदा किस्सों से था,
                                                उस शज़र पे आज पतझर, क्या करें!

                             …