Wednesday

Autumn : Haiku

                                                    


                                                                           .                              season's master stroke                                              lands lit with amber and gold
                  swan song of  verdant

                                                                             
                                                                          

Monday

क्या करें


                                                 मुस्कुराते हम हैं हर तस्वीर में
                                                 झिलमिलाती इस नज़र को क्या कहें?

                                                 इक मुक़्क़मल ख़्वाब होती ज़िंदगी
                                                 दिल तेरी यादों का घर, अब क्या करें।

                                                खामोश है, सुनसान है मेरा मकां
                                                तेरी बातों का असर, हम क्या कहें?

                                                उलझनें कमबख्त दिल को कम ना थीं
                                                है तेरी रंजिश भी अब सर, क्या करें...
                   

                                                सुर्ख़ अल्हड़पन, सिंदूरी शोखियाँ
                                                आज गुमसुम गुलमोहर वो, क्या कहें...

                                                बातों से महका, लदा किस्सों से था,
                                                उस शज़र पे आज पतझर, क्या करें!

                                               पढ़ते क़सीदे थे कभी हर बात पर
                                               आज शिक़वे बस मुसलसल क्या कहें!

                                               बारहा शब के अंधेरे कम ना थे
                                               मौत जैसी इस सहर का क्या करें?



झिलमिलाती -  shimmering with tears                          शज़र- a tree in bloom
मेरा मकां - my soul.                                                          मुसलसल- connected, chained, always
बारहा - often.                                                                   सहर - morning, dawn




ग़ुलाब- The Rose

                 ग़ुलाब एक...                                    डॉयरी के पन्नों में,                                     कोयल ने फिर कुह...