Saturday

ग़ज़ल

जब भी तारीकियों को बैठ आप सीते हैं
ये दमकते सितारे लगते रीते रीते हैं

ज़रा सा मुस्कुराया चाँद, गुफ़्तगू कर ली
आप समझे कि आप साथ मरते जीते हैं!

वो जो रोये थे आप किस्से कहानी पढ़कर
वो फ़साने, वो लफ्ज़ मेरे आप बीते हैं

क्यों ना निखरे अदाएं लहरों सी मचलें, आखिर
एक मुस्कान पे सौ आंसुओं को पीते हैं।

पलटे जो गर, तो जा ही न पाओगे कभी
मेरी नज़रों में रूह नापने के फीते हैं।





तारीकी - a tenebrous gloom, dejection                                                              रीते रीते - empty, listless
गुफ़्तगू - chat                                                                                                           आप बीते - autobiographical
क्यूँ ना निखरे अदाएं - why not the flirtations become more deadly                                                                                         आंसुओं को पीते हैं - as I gulp down tears( which adds salt to the coy looks!)
 रूह  नापने  के फीते -  tapes to measure/ recognize your soul...(as you are my soulmate)

Image courtesy: Pinterest

6 comments:

  1. wow! u write so beautifully! :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thank-you dear friend! Glad you liked...And, welcome to this space, girl!:)

      Delete
  2. इतनी सादगी और खूबसूरती से अपनी बात कहना तो बस आप ही कर सकती हैं कोकिला!
    "मेरी नज़रों में रूह नापने के फीते हैं।".. दिल को छू गई!
    वो ग़ज़ल ही क्या जो घायल न करे! पर मैं तो कायल हो गयी!

    ReplyDelete
    Replies
    1. Aap ki tippani hi itni kavita-may hoti hai...isko Padhkar hi itna anand aata hai fir aapke shabdon me jhalakta apnapan bas, sone me suhaga hai..Thank-you SO much, sangeeta ji!

      Delete
  3. So you know Urdu!
    And my bad, I don't know Urdu to enjoy this gazal :-(

    ReplyDelete
    Replies
    1. I took time to reply sindhu, as was tryingto edit and
      write the meanings of some tough words here, but was not getting time! Here I am after editing and hopes that you can get the gist , girl! Thankyou SO much for all the effort you put in to read and understand...No words can express my gratitude! :)

      Delete

Your views make this blog work ...Thanks a lot. :)

ग़ुलाब- The Rose

                 ग़ुलाब एक...                                    डॉयरी के पन्नों में,                                     कोयल ने फिर कुह...