Skip to main content

Posts

Showing posts from January, 2019

ग़ुलाब- The Rose

ग़ुलाब एक...
                                   डॉयरी के पन्नों में, 
                                   कोयल ने फिर कुहुक लगाई
                                   लम्हे लहराते से आये,
                                    सुधियों ने ले ली अँगड़ाई
                                    अस्फुट शब्दों की छवियां
                                    मन की वीणा पर जा इठलायीं                                       विस्मृत स्मृतियों ने आ-आ कर,
                                    मन द्वारे पर अलख जगायी।
                                     स्वप्न-मेघ को चली बांधने,
                                    फिर से हठी, चपल पुरवाई
                                    देख ठिठोली बाल सुलभ ये,
                                    धूप मधुर मधुरिम मुस्कायी।
                                    बूढ़े बरगद पर चिड़ियों ने,
                                    रह-रह कर फिर हूक उठाई ,
                                    पल-पलाश दहके शोलों से,
                                     ...याद वही लौट आई







P.…