Skip to main content

As I like it

"I like this place and could willingly waste my time in it ."
                                                         - Celia in As You Like It by  William Shakespeare

                                                     Happy Day 58 (Country Club, Attibelle, Bangalore)                                  

Comments

  1. “Do you not know I am a woman? when I think, I must speak.” :-D :-D
    you looks awesome, just wow, keep smiling always. Good wishes & hugs.

    ReplyDelete
    Replies
    1. OMG Ruchi .... don't know how I missed your comment dear !!
      must be some problem with my site or something ...
      Thanks dearie for the sweet 'insightful' comment ...I am in Full Agreement :) :P

      Delete

Post a Comment

Your views make this blog work ...Thanks a lot. :)

Popular posts from this blog

अभिन्न : Integral

मिथ्या तेरे सब बोल मधुर
सच्चा मेरा तीखा कटाक्ष
मलयानिल जैसी शीतल मैं
तेरा मन जलता वन पलाश

मैं मौन प्रणय का गुह्य गीत
तुम निर्झर के स्वर से कल कल
मैं धीर धरा सी लीकबद्ध
तुम मेघों सा उड़ते अविरल

निर्जन मन की निष्कम्प शिखा
उत्सव का दीप प्रकाशित तुम
मैं आम्रकुंज की कुहू कोकिल
सुर-ताल छंद परिभाषित तुम

में स्वतः स्फूर्त प्रकृति पूर्ण
तुम कठिन परिश्रम से अर्जित
मैं बंकिम भ्रू का अल्हड़ विलास
तुम पांडित्यपूर्ण चंदन चर्चित

यूँ भिन्न दिखाई देते हैं
सच में लेकिन है भिन्न नहीं
लगते जो उलट विरोधी हैं
रचते जीवन संगीत वही।

सृष्टि के नित संचालन के
सुंदर ये सारे  सृजन चिन्ह
लगते हैं अलग-अलग से पर
शिव-शक्ति से ये हैं अभिन्न।




मिथ्या- false
कटाक्ष- sarcasm

मौन प्रणय- tacit romance
गुह्य गीत - hidden song( as in, the lyrics of which are decipherable only to the worthy)
परिभाषित- defined by.

अविरल- always, continual
निष्कम्प - unwavering

स्वतः स्फूर्त- self ignited, sustainable.
बंकिम भ्रू  - arched brow
अल्हड़ विलास - unaffected careless charm
चर्चित- known to be, popular, apparent

सृजन चिन्ह- symbols of cr…

ग़ुलाब- The Rose

ग़ुलाब एक...
                                   डॉयरी के पन्नों में, 
                                   कोयल ने फिर कुहुक लगाई
                                   लम्हे लहराते से आये,
                                    सुधियों ने ले ली अँगड़ाई
                                    अस्फुट शब्दों की छवियां
                                    मन की वीणा पर जा इठलायीं                                       विस्मृत स्मृतियों ने आ-आ कर,
                                    मन द्वारे पर अलख जगायी।
                                     स्वप्न-मेघ को चली बांधने,
                                    फिर से हठी, चपल पुरवाई
                                    देख ठिठोली बाल सुलभ ये,
                                    धूप मधुर मधुरिम मुस्कायी।
                                    बूढ़े बरगद पर चिड़ियों ने,
                                    रह-रह कर फिर हूक उठाई ,
                                    पल-पलाश दहके शोलों से,
                                     ...याद वही लौट आई







P.…

Bringing Down the House : Review

'Bringing down the house' stars my two favs Steve martin and Queen Latifah :) so expectations were high ...only to be crashed again.

 A story idea with potential which turned out half baked as too many ingredients like the  Victorian attitude, the nanny-thing,blind -date-backfire, kids-need-attention, still in much love ex-couple ingredient....and many more.Different natures of these ingredients prevented the dish to bake fully. Alas! an amazing star cast but a moderate product. 
The most it will do is just bring down your expectations .
Still U can give it a try :)
Mostly for the sake of the lead pair which certainly shows sparks in this otherwise lack lustre film.