Skip to main content

Posts

Showing posts from September, 2017

Nazm : मौसम

लो फिर से लौट के आया है प्यार का मौसम
खत-ओ-किताबत-ओ-इतंज़ार का मौसम

चाँद जागेगा फिर सर्दी की लंबी रातों  में
छाया है फिर उसी उन्स-ओ- खुमार का मौसम

फूल शरमायेंगें, कलियाँ ये गुनगुनाएँगी
'हया की लाली से कर लो श्रृंगार', का मौसम

पँछी खिड़की पे आज बैठे फिर से इठला कर
मुंडेर पे सजी महफ़िले-गुंजार का मौसम

फ़क़त वो इक नज़र गिरी हमारे हिस्से में
उसी रविश से है हर पल बहार का मौसम

बला की शोखियां बिखरी थी अब तलक हर सू
हमें मिला खिज़ां में, अब निखार का मौसम





खत-ओ-किताबत -ओ- इतंज़ार -  (season of) writing letters and waiting (for the reply) उन्स-ओ- खुमार - love and intoxication.    हया- shyness  महफ़िले-गुंजार - congregation of twittering birds , here ( musical notes of ecstatic hearts).        हर  सू- every where.                        खिज़ां- autumn.                                      
रविश- time, moment, pathway




ना-उम्मीद

दफ़्न था जिस्म, फना रूह, मर्सिया खत्म कब का
पर ये उम्मीद है कि आज भी मरती ही नहीं

न कोई तंज़, कोई शिक़वा, कोई बदमजगी-ए-दिल.
दिल की कलियाँ हुई ऐसी कि बस खिलती ही नहीं

दरख्तों में खोई तितली को क्यूँ शहर लाये ?
सरे- बाज़ार उसे राह कोई मिलती ही नहीं

शम्मा रोशन, चरागों से नूर बिखरा है, फ़क़त,
रौनके-दिल बुझी ऐसी कि अब जलती ही नहीं

इस तरह से बचाया आपने दामन हमसे
गोया मनहूस बाद अपने कोई हस्ती ही नहीं

बेवजह भूल गए बेपनाह चाहने वाले
अब भी पूछोगे कि, " क्यूँ तुम कभी हँसती ही नहीं?"

तुम्हें हो नाज़, नहीं, ना सही, हमको है गुमां
तुम्हारे बिन कोई शै दिल को अब जँचती ही नहीं

ख़ुदाया खैर, ज़ब्त की हद हो चुकी कब की
कैसी ये बर्फ़ तेरे दिल की, पिघलती ही नहीं!


मर्सिया- the poem of mourning and lamentation                                                         तंज़- sarcasm
फ़क़त - just, only, ,महज़                             शै- entity, any thing, object, soul...living or dead.





स्मृति : Sigils (Haiku)

dewdrops on green leaves  sigils of star-studded nights   glow in pink sunshine
mute anguish of sky devoid of love it weeped these dazzling gems of morns


                                                                                                    तुहिन बिंदु
                                                                                                    टूटे तारे, सजाते
                                                                                                    धवल प्रात:                              
                                                                                                    स्नेह-स्मृति हों जैसे
                                                                                                    मौन मूक प्रेम की









ग़ज़ल : फ़िकर

जब कभी चाँद को दहलीज़ पे लाना होगा
धूप ढ़ल जाएगी, उजालों को जाना होगा।

लफ्ज़ सस्ते थे, चमकदार थे, सो, खूब चले
फिर कोई दानिश लन-तरानी का निशाना होगा

जरा सी बात है कि हम नहीं रहे हमदम
जाम पकड़ोगे तो शर्मिंदा मयखाना होगा।

दुआ है नये सब दोस्त ज़ैब-ओ-अक्लमन्द मिलें
वरना दिल फिर कोई हाथों से दबाना होगा।

क्या फ़िकर है, यही, डरते हो लौट आएंगे?
बाद मरने के भी अब हिज़्र निभाना होगा।


दहलीज़- threshold
दानिश- wise                                           लन-तरानी- rhetorics, words of mockery (or) false praise
 हमदम- soulmate                                 मयखाना - winehouse
ज़ैब-ओ-अक्लमन्द - embellished and intelligentहिज़्र - absence, separation from beloved.           निभाना- Observe

Painting in greens with Royale Atoms

Planting trees, controlling mindless urbanization and reviving our water bodies are a few of the many measures we take to ensure healthy and clean outdoors but how many times and how many of us have ever  looked inside our personal sanctuaries- our homes for the same?  We know about the importance of living in well lit and ventilated homes but in the world brimming with lucrative offers in building materials, paints, home furnishing and décor items, we can hardly boast of making environment friendly and judicious choices any more.

We need to be careful about what we use as   fireplaces, un-vented gas stoves, heaters, wood stoves , improperly installed chimneys emit carbon mono oxide, nitrogen di oxide, Radon, particulates , hydrocarbons and children growing up in such homes have more respiratory problems than those growing up in cleaner homes.
Similarly, in modern décor we need LOTS of shelves, cabinets and wall panelling  made from pressed wood products made from adhesives having urea …

Happy Grandparents Day!

When we say family matters the most, do we mean just spouse, children and parents (sometimes) both sets( rarer) or by family we mean The Family, the entire khandan full of uncles, aunts, cousins and yes, the Grandparents? Hardly.
But, for me family means everyone.
And, fortunately, both my children have inherited this and are blessed to have the most lively set of grandparents.One, the Baba-Amma showering them with gifts and the other, a retired old granny doting on them just the way only a retired, once strict and wise granny can!
My son shares a bond of mutual respect and affection with his granny as right from a very young age he admired her for her resilience and intellect, for raising his mother (I) single handedly and for carving out an enviably admirable social presence due to her knowledge and behaviour. He has her as a role model in terms of etiquette,  wisdom and character. On the other hand,  his airy head sister, simply snuggles in the lap of her Nani Ma and breathes in t…

बारिशें: गज़ल

चाँद जा डूबा, भरी धरती ने आह,
देखो फिर से बारिशें होने लगी।

 रंग नाज़ुक उड़ गए, खुशबू फना
लफ़्ज़ों में झूठी खनक होने लगी।

कह दिया, 'तुम हो' यही काफी मुझे
जाने क्यों तुमको ख़लिश होने लगी?

जो चले जाते हैं फिर आते नहीं
मेरे दर की हर कड़ी रोने लगी।

रोकने से कौन रुकता है यहाँ?
रात फिर भी रोज़ तकिया भिगोने लगी।

आज फिर धक्का दिया दिन को जरा
तारीख़ें जैसे ज़हर होने लगीं।

कूकती थीं कोयलें जो बाग में
सय्याद को ख़ुद से नज़र होने लगीं।


झूठी खनक- hollow sounds  (of fake concerns) resonance

 दर- door                                                             ख़लिश- burning restlessness,
सय्याद- hunter, the one who ensnares birds for sale/kill/ selfish reasons

ग़ज़ल

जब भी तारीकियों को बैठ आप सीते हैं
ये दमकते सितारे लगते रीते रीते हैं

ज़रा सा मुस्कुराया चाँद, गुफ़्तगू कर ली
आप समझे कि आप साथ मरते जीते हैं!

वो जो रोये थे आप किस्से कहानी पढ़कर
वो फ़साने, वो लफ्ज़ मेरे आप बीते हैं

क्यों ना निखरे अदाएं लहरों सी मचलें, आखिर
एक मुस्कान पे सौ आंसुओं को पीते हैं।

पलटे जो गर, तो जा ही न पाओगे कभी
मेरी नज़रों में रूह नापने के फीते हैं।





तारीकी - a tenebrous gloom, dejection                                                              रीते रीते - empty, listless
गुफ़्तगू - chat                                                                                                           आप बीते - autobiographical
क्यूँ ना निखरे अदाएं - why not the flirtations become more deadly                                                                                         आंसुओं को पीते हैं - as I gulp down tears( which adds salt to the coy looks!)
 रूह  नापने  के फीते -  tapes to measure/ recognize your soul...(as you are my soulmate)

Image courtesy: Pinterest