Skip to main content

नज़्म : रंजिश



वो इक पल जिसमे हम दोनों, चले थे हाथ थामे संग,
सज़ा हो उसकी इकतरफा, ये किस तरह से वाज़िब है?

हरसिंगार, चम्पा, नदिया, बरगद जल गये सारे
नहीं जलती मगर यादें ये दिल की कैसी साज़िश है!

कुफर जैसी सियाह सीरत, मुलम्मा झूठ का तिस पर
इबारत इश्क़ की पढ़ ले, भला कैसे मुनासिब है?

खिला था चाँद आंगन में, सितारे जगमगाते थे
अँधेरे को चुना हमने,अबस सी क्यूं ये आदत है?

वो लम्हा जिसमे हंस बैठे ज़माना भूल कर सारा,
सज़ा सदियों पे भारी हो, ख़ुदाया, क्या नवाज़िश है!

ना होते हो तो होते हो, बिना बातों की बातें यूँ,
गोया हर बात हर चुप्पी, बस इक तुम से मुख़ातिब है।

वो बातें जो जलाती हैं, रगों में खूं धुँए मानिंद
उन्ही बातों पे बातें हों, मिरी आख़िरी सिफ़ारिश है।

वो मंज़र जो पिघलते हैं गोया सीसा हो आंखों में
उन्ही को रोज़ देखूँ मैं,  बहुत गहरी ये रंजिश है।





हरसिंगार = night jasmine               चम्पा = Frangipani, Plumeria                 
बरगद = banyan tree                       साज़िश  = ruse, planning
कुफर = sin                                         सीरत= mind, soul
मुलम्मा= outer husk, mask.             अबस= futile
गोया = as if                                       मुख़ातिब = for you, towards
सीसा  = molten lead                         रंजिश= acrimony, bitterness
Image: Google


Comments

  1. These are always intense, heart-felt and moving! (I have to read it a couple of times to get that it :) )

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thank-you, dear...For beautiful words and your effort! Means Much!😊😊 Hugs!👌👌

      Delete
  2. ओह नो ! दिल को कहीं गहरे तक चीरती चली गई है यह ग़ज़ल । क्या कहूं ? लब ख़ामोश हो गए हैं इसे सुनकर (आँखों से) ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. Bahut bahut shukriya! Glad that the piece appealed to you. :)

      Delete
  3. Amazing poetry, straight from the heart.

    ReplyDelete
  4. Lovely...had to struggle to read and understand Hindi...but didn't want to miss the one written by you

    ReplyDelete
    Replies
    1. I understand the language barrier Ranjana hence I am more grateful for the effort you put in reading! Thank-you, so much, Friend! :)

      Delete
  5. Bahut khoobsoort! Straight from the heart and touching.
    Bas aisi hi ghazal kehna,
    Faqat itni guzarish hai!

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thank-you, So much! Being a novice in this genre, your words mean much to me and I wait for your words.Just, Keep visiting.. :)

      Delete
  6. Replies
    1. So many thanks, shashi! Glad you liked and are here...Means SO much!

      Delete
  7. First of all i have learnt many new words from this post,secondly its an amazing write up.

    ReplyDelete
  8. You write so well in Hindi too, soul-sis. This is such a beautiful creation!

    ReplyDelete
    Replies
    1. And you understand Hindi too! While I am at loss to read YOUR work in Bangla!*rolling eyes*
      It's a pleasure you liked it, Mani. I value your opinion. Thank-you! :)

      Delete
  9. Ati sundar. Your choice of words in expressing the feelings is amazing, Kokila

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thank-you, Somali! Means much that you have liked it! :)

      Delete

Post a Comment

Your views make this blog work ...Thanks a lot. :)

Popular posts from this blog

अभिन्न : Integral

मिथ्या तेरे सब बोल मधुर
सच्चा मेरा तीखा कटाक्ष
मलयानिल जैसी शीतल मैं
तेरा मन जलता वन पलाश

मैं मौन प्रणय का गुह्य गीत
तुम निर्झर के स्वर से कल कल
मैं धीर धरा सी लीकबद्ध
तुम मेघों सा उड़ते अविरल

निर्जन मन की निष्कम्प शिखा
उत्सव का दीप प्रकाशित तुम
मैं आम्रकुंज की कुहू कोकिल
सुर-ताल छंद परिभाषित तुम

में स्वतः स्फूर्त प्रकृति पूर्ण
तुम कठिन परिश्रम से अर्जित
मैं बंकिम भ्रू का अल्हड़ विलास
तुम पांडित्यपूर्ण चंदन चर्चित

यूँ भिन्न दिखाई देते हैं
सच में लेकिन है भिन्न नहीं
लगते जो उलट विरोधी हैं
रचते जीवन संगीत वही।

सृष्टि के नित संचालन के
सुंदर ये सारे  सृजन चिन्ह
लगते हैं अलग-अलग से पर
शिव-शक्ति से ये हैं अभिन्न।




मिथ्या- false
कटाक्ष- sarcasm

मौन प्रणय- tacit romance
गुह्य गीत - hidden song( as in, the lyrics of which are decipherable only to the worthy)
परिभाषित- defined by.

अविरल- always, continual
निष्कम्प - unwavering

स्वतः स्फूर्त- self ignited, sustainable.
बंकिम भ्रू  - arched brow
अल्हड़ विलास - unaffected careless charm
चर्चित- known to be, popular, apparent

सृजन चिन्ह- symbols of cr…

ग़ुलाब- The Rose

ग़ुलाब एक...
                                   डॉयरी के पन्नों में, 
                                   कोयल ने फिर कुहुक लगाई
                                   लम्हे लहराते से आये,
                                    सुधियों ने ले ली अँगड़ाई
                                    अस्फुट शब्दों की छवियां
                                    मन की वीणा पर जा इठलायीं                                       विस्मृत स्मृतियों ने आ-आ कर,
                                    मन द्वारे पर अलख जगायी।
                                     स्वप्न-मेघ को चली बांधने,
                                    फिर से हठी, चपल पुरवाई
                                    देख ठिठोली बाल सुलभ ये,
                                    धूप मधुर मधुरिम मुस्कायी।
                                    बूढ़े बरगद पर चिड़ियों ने,
                                    रह-रह कर फिर हूक उठाई ,
                                    पल-पलाश दहके शोलों से,
                                     ...याद वही लौट आई







P.…

Bringing Down the House : Review

'Bringing down the house' stars my two favs Steve martin and Queen Latifah :) so expectations were high ...only to be crashed again.

 A story idea with potential which turned out half baked as too many ingredients like the  Victorian attitude, the nanny-thing,blind -date-backfire, kids-need-attention, still in much love ex-couple ingredient....and many more.Different natures of these ingredients prevented the dish to bake fully. Alas! an amazing star cast but a moderate product. 
The most it will do is just bring down your expectations .
Still U can give it a try :)
Mostly for the sake of the lead pair which certainly shows sparks in this otherwise lack lustre film.