Skip to main content

चिर

लाल चुनरिया सर पर ऐसे
केसरिया ज्यों बाना
ज़री किनारी लहके पढ़ कर
आँखों मे उलहाना

कँगन, झुमके जल जल भभके
मन अग्नि की ज्वाला
बाहर की लपटें थीं शीतल
सो अर्पण कर डाला

काजल की झूठी लीक कहाँ
आयत नैनों को बाँधे
मेहा से बरसे, उर में सूखा
वेग कहाँ तक साधे

जीवन एक छलावा जिस पर
खोटा समय कराया
सत्य प्रेम बस चिर निद्रा है
आज समझ यह आया





लाल चुनरिया -  bridal red scarf
केसरिया ज्यों बाना - (with an attitude of) saffron headgear of a warrior
लहके - glints like fire   
ज़री किनारी- the golden lining og the hem of the dress
उलहाना -sarcasm...Here, humiliation and sneering.
भभके- flame up!
बाहर - world(ly)               
आयत नैनों - large eyes, here, moonstruck    मेहा- rain clouds
छलावा - illusion.               
खोटा- waste
सत्य प्रेम - unconditional love
 चिर निद्रा - the ultimate rest

Image : Internet

Comments

  1. This one is deep Kokila. Elements of Shringar Raasa juxtaposed with the contrasting emotions and a realization of futility towards the end. A I right in interpreting this?

    ReplyDelete
    Replies
    1. Right. Just one more nuance- here the elements of shringar are more fierce because the kajal, zari kinari, bangles etcetera have understood the futility too...along with her(protagonist) slow realization of the same. Hence, despite themselves, they glint with an inner fire,at times with humiliation,shame and angst..just like the lady herself...only to be lost in a final resignation.
      A pleasure you liked it!

      Delete
    2. This nuance makes it even better. :-)

      Delete

  2. الرائد تقدم خدمات تطهير و تعقيم خزانات المياه فى جدة و مكة لاننا :
    افضل شركة تنظيف خزانات بجدة
    و افضل شركة تنظيف خزانات بمكة
    للمزيد قم بزيارة
    افضل شركة تنظيف منازل

    ReplyDelete

Post a Comment

Your views make this blog work ...Thanks a lot. :)

Popular posts from this blog

अभिन्न : Integral

मिथ्या तेरे सब बोल मधुर
सच्चा मेरा तीखा कटाक्ष
मलयानिल जैसी शीतल मैं
तेरा मन जलता वन पलाश

मैं मौन प्रणय का गुह्य गीत
तुम निर्झर के स्वर से कल कल
मैं धीर धरा सी लीकबद्ध
तुम मेघों सा उड़ते अविरल

निर्जन मन की निष्कम्प शिखा
उत्सव का दीप प्रकाशित तुम
मैं आम्रकुंज की कुहू कोकिल
सुर-ताल छंद परिभाषित तुम

में स्वतः स्फूर्त प्रकृति पूर्ण
तुम कठिन परिश्रम से अर्जित
मैं बंकिम भ्रू का अल्हड़ विलास
तुम पांडित्यपूर्ण चंदन चर्चित

यूँ भिन्न दिखाई देते हैं
सच में लेकिन है भिन्न नहीं
लगते जो उलट विरोधी हैं
रचते जीवन संगीत वही।

सृष्टि के नित संचालन के
सुंदर ये सारे  सृजन चिन्ह
लगते हैं अलग-अलग से पर
शिव-शक्ति से ये हैं अभिन्न।




मिथ्या- false
कटाक्ष- sarcasm

मौन प्रणय- tacit romance
गुह्य गीत - hidden song( as in, the lyrics of which are decipherable only to the worthy)
परिभाषित- defined by.

अविरल- always, continual
निष्कम्प - unwavering

स्वतः स्फूर्त- self ignited, sustainable.
बंकिम भ्रू  - arched brow
अल्हड़ विलास - unaffected careless charm
चर्चित- known to be, popular, apparent

सृजन चिन्ह- symbols of cr…

ग़ुलाब- The Rose

ग़ुलाब एक...
                                   डॉयरी के पन्नों में, 
                                   कोयल ने फिर कुहुक लगाई
                                   लम्हे लहराते से आये,
                                    सुधियों ने ले ली अँगड़ाई
                                    अस्फुट शब्दों की छवियां
                                    मन की वीणा पर जा इठलायीं                                       विस्मृत स्मृतियों ने आ-आ कर,
                                    मन द्वारे पर अलख जगायी।
                                     स्वप्न-मेघ को चली बांधने,
                                    फिर से हठी, चपल पुरवाई
                                    देख ठिठोली बाल सुलभ ये,
                                    धूप मधुर मधुरिम मुस्कायी।
                                    बूढ़े बरगद पर चिड़ियों ने,
                                    रह-रह कर फिर हूक उठाई ,
                                    पल-पलाश दहके शोलों से,
                                     ...याद वही लौट आई







P.…

Bringing Down the House : Review

'Bringing down the house' stars my two favs Steve martin and Queen Latifah :) so expectations were high ...only to be crashed again.

 A story idea with potential which turned out half baked as too many ingredients like the  Victorian attitude, the nanny-thing,blind -date-backfire, kids-need-attention, still in much love ex-couple ingredient....and many more.Different natures of these ingredients prevented the dish to bake fully. Alas! an amazing star cast but a moderate product. 
The most it will do is just bring down your expectations .
Still U can give it a try :)
Mostly for the sake of the lead pair which certainly shows sparks in this otherwise lack lustre film.